Kalpana Shakti | 2 Best कल्पना शक्ति का अर्थ और महत्व

KALPANA SHAKTI
Kalpana Shakti

Kalpana Shakti क्या है? मानसिक क्रिया है, या मस्तिष्क की शक्ति। क्या कल्पना शक्ति हमारी सफलता का मंत्र है? कल्पना शक्ति का संबंध अतीत से होता है या भविष्य से। कल्पना शक्ति के द्वारा क्या हम अपनी इच्छाओं व सपनों को पूरा कर सकते हैं? कल्पना शक्ति का आधार वास्तविकता है, या कल्पनाओं के पंख लगा कर उन्मुक्त गगन में उड़ना ही कल्पना शक्ति है।

ये सभी विचार, प्रश्न व उत्सुकता हमारे मन मस्तिष्क में अनायास ही उभर आते हैं। जैसा कि मेरी वेबसाइड का शीर्षक है विचार और शोध तो मैं इस शीर्षक को सार्थकता प्रदान करते हुये कभी अपने मन मस्तिष्क में उत्पन्न अद्भुत विचारों को तो कभी कुछ विशेष, आवश्यक व महत्वपूर्ण विषयों पर किए हुये अपने शोध को लेख के रूप में साझा करती हूँ।

पिछले कई पोस्ट में मैंने शोध लेख साझा किए किन्तु आज मैं अपने मन में उत्पन्न एक ऐसे विचार को साझा कर रही हूँ जो न मात्र मेरे ही बल्कि आप सभी के जीवन में भी महत्वपूर्ण स्थान रखता है या कह ले कि हमारी जिंदगी का हिस्सा ही है। अनेक ऐसे विषय होते हैं जिन पर मन की चंचलता व कौतुहलता के कारण हम विचार करने को विवश हो जाते है और उचित भी है क्योंकि विचार–विमर्श, चिंतन–मनन व मन-मस्तिष्क के माध्यम से ही हम मनुष्यता की श्रेणी में आते हैं।

KALPANA SHAKTI

अत: आज का विषय है– कल्पना शक्ति । तो आइए कल्पना शक्ति के विषय में चिंतन–मनन करें और उसके अर्थ और मानव जीवन में कल्पना शक्ति के महत्व को समझने का प्रयास करें कि कल्पना शक्ति का हमारे जीवन में क्या महत्व हैं। सर्वप्रथम हम कल्पनाशक्ति का अर्थ समझने का प्रयास करेंगे।

कल्पना शक्ति का अर्थ

अँग्रेजी में कल्पना को Imagination और कल्पना शक्ति को Imagination Power कहते हैं। वह भाव जो मन में नवीन, अद्भुत, अनदेखी व कौतुहल युक्त विचारों व बातों के अस्तित्व को उपस्थित करता है।

जैसे किसी चित्रकार के मन मस्तिष्क की कल्पना कैनवस पर रेखाओं व रंगों के माध्यम से अद्भुत चित्रकारी प्रस्तुत करना, या मूर्तिकार की कल्पना कठोर पत्थर को काट कर व घिसकर सुंदर मूर्ति का रूप प्रदान करना, या किसी कवि और लेखक के द्वारा साधारण से विषय में भी आकर्षण तथा चमत्कार उत्पन्न करके काव्य या गद्य रूप में रचना का निर्माण करना, किसी व्यक्ति का अपनी कल्पना के द्वारा अनेक आविष्कारों के माध्यम से वैज्ञानिक की श्रेणी में प्रतिस्थापित होना। कल्पना ही किसी मनुष्य को कवि, लेखक, वैज्ञानिक, मूर्तिकार व चित्रकार बनाती है। अत: कह सकते हैं कि हमारी कल्पनाएं हमे एक सफल प्राणी बनाने में सहयोग करती हैं।

मनुष्य को ईश्वर के द्वारा मस्तिष्क जैसी एक ऐसी शक्ति प्राप्त है जो मनुष्य जाति के अतिरिक्त किसी के भी पास नहीं होती। मनुष्य की अनेक मानसिक शक्तियों में कल्पनाशक्ति भी एक अनोखी व अविस्मरणीय शक्ति है। कल्पना एक मानसिक प्रक्रिया है। हमारे मस्तिष्क में जो विचार उत्पन्न होते हैं उसे ‘कल्पना’ कहते हैं और उन कल्पनाओं में जितनी तीव्रता होती है वह कल्पना शक्ति कहलाती है। जब मस्तिष्क से उत्पन्न विचार मन को उद्द्वेलित करते हैं तब कल्पना का जन्म होता है।

कल्पना शक्ति का महत्व

कल्पना शक्ति हमारे अनुभवों, विचारों और भावनाओं को और अधिक सोचने, चिंतन मनन करने की शक्ति प्रदान करती है। हमारी कल्पना शक्ति की तीव्रता मस्तिष्क की शक्ति पर निर्भर करती है। प्रत्तेक मनुष्य की कल्पना शक्ति भिन्न भिन्न होती है। कोई पक्षियों की चहचहाहट पर कविता लिख देता है तो कोई ध्वनि सुनने मात्र से चित्रकारी कर देता है, कोई मनोवैज्ञानिक तर्क उपस्थित करता है, कोई ध्वनि सुन कर आनंद व शांति का अनुभव करता है और कोई मात्र उस ध्वनि को पक्षियों की स्वाभाविक क्रिया ही समझता है।

अत: इन भावनाओं का उत्पन्न होना हमारी कल्पना शक्ति पर निर्भर करता है और कल्पना शक्ति मानसिक क्षमता पर। वर्तमान में हम अनेक आविष्कार करके स्वयं को प्रगतिशील व उन्नतिशील प्राणी मानते हैं, यह हमारी कल्पना शक्ति का ही परिणाम है। हमारा मस्तिष्क हमारी कल्पनाओं को शक्ति प्रदान करता है कभी हम कुछ ऐसी वस्तुओं की कल्पना कर लेते हैं जो असंभव लगती हैं किन्तु भविष्य में अक्सर वे कल्पनाएं पूर्ण होती हुई प्रतीत होती हैं।

प्रस्तुत लेख में मैं अपने विचार व अनुभवों को साझा कर रही हूँ। हाँ किन्तु हो सकता है कि यह आप में से किसी के भी विचार, कल्पना व अनुभव हों। एक समय था जब हमारे घरों में लैनलाइन फोन थे। उस वक्त मैं कल्पना करती थी काश ऐसे फोन होते जिन्हें हम अपने साथ कही भी ले जा सकते। उस वक़्त यह कल्पना मात्र कल्पना ही लगती थी। कभी संभव होगा सोचा नहीं था। उस वक़्त मैं 12 – 13 वर्ष की रही होगीं। आज मैं अपनी उस कल्पना को पूर्ण होते हुये देख रही हूँ। आज हम अपना मोबाइल फोन अपनी पर्स और जेब में लेकर चलते हैं।

कल्पनाएं सफलता का मंत्र

सोचिए मेरी कल्पना शक्ति कितनी तीव्र रही होगी। हमारी कल्पना शक्ति जितनी तीव्र होती है, हमारी सफलता उतनी ही अधिक सुनिश्चित हो जाती है। हमारा अवचेतन मन कल्पना और भावनाओं के आधार पर ही मस्तिष्क को विचार करने हेतु विवश करता है और यही विचार हमारी सफलता व प्रगति के कारण बनते हैं। मन की कल्पना शक्ति को जाग्रत करके हम अनेक गुणों को अपने अंदर समाविष्ट कर सकते हैं।

मेरी कल्पनाएं यही समाप्त नहीं हुई मोबाइल पर अपने आत्मीय जन से बात करते हुये कई बार यह विचार भी आने लगा की काश हम बात करने वाले को देख भी सकें। तो कोई कितना भी दूर क्यू न हो दूरी का एहसास ही नहीं होगा। यह कल्पना बहुत ही रोचक प्रतीत होती थी किन्तु विचित्र भी। लेकिन वह विचित्र कल्पना भी वास्तविकता बन ही गई।

आज हम वीडियो कॉल के द्वारा दूसरी तरफ बात करने वाले के दर्शन भी कर लेते हैं। जिससे जो मीलों दूरी पर है वह बिलकुल करीब महसूस होता है। आज हम अपने साथ अपने संबंधियों और आत्मीय जनों से मात्र बात करने का उपकरण लेकर नहीं चलते बल्कि मनोरंजन का पूरा पिटारा लेकर चलते हैं।

नि:सन्देह यह विज्ञान के चमत्कार हैं, वैज्ञानिकों के आविष्कार हैं परंतु उत्पत्ति कहाँ से हुई कल्पना शक्ति से। इनका आविष्कार वैज्ञानिकों की कल्पना शक्ति थी और उपयोग हमारी कल्पना शक्ति।

कल्पनाएं प्रसन्नता का मंत्र

कहते हैं मन बड़ा चंचल होता है। कही भी चला जाता है। मन पर कोई बंधन नहीं। वह स्वतंत्र होता है सब कुछ सोचने के लिए, कल्पनाएं करने के लिए और कहीं भी विचरण करने के लिए। भले ही देश में लॉक डाउन ही क्यूँ ना हो। कोरोना महामारी के इस भीषण और विकट परिस्थिति में जब हम शारीरिक रूप से घरों में रहने को विवश हैं, तब भी हमारे मन की कल्पनाएं हमे दुनियाँ की किसी भी जगह की सैर करा सकती है। बस हमें अपने मस्तिष्क को समस्याओं से हटा कर कुछ समय के लिए मन की कल्पनाओं की चमत्कारी दुनिया की सैर करनी होगीं।

सच कहूँ तो मैं अपनी कल्पनाओं के सहारे पिछले कई महीनों में दुनिया की अपनी मनपसंद कई जगहों की सैर करके आई हूँ। वह तरोताजगी जो नैनीताल की वादियों में है, वह मन की शांति जो हरिद्वार के गंगा के तट पर है, वह पवित्रता का एहसास जो देवी माँ के दर्शन में है और वह विश्वास जो साईं बाबा के चरणों में है कही और नहीं। हमारा मन यदि हमारी इच्छाओं को उत्पन्न करने का माध्यम है, तो इच्छाओं की पूर्ति का साधन भी है। बस हमें अपने विचारों और भावनाओं को विस्तार देने की आवश्यकता है।

यदि हम कल्पना शक्ति के द्वारा स्वयं को प्रसन्न कर सकते हैं, आत्मिक सुख का अनुभव कर सकते है, जीवन की समस्याओं से निकाल कर कुछ समय के लिए ही सही निश्चिंत हो सकते है, तो सोचना क्यूँ? कल्पना के पंख लगाइए और स्वच्छंदता से अपनी मन की राहों में विचरण कीजिये।

कल्पनाओं की दुनिया अवश्य ही चमत्कारी होती है साथ ही महत्वपूर्ण भी। कल्पना शक्ति का हमारे जीवन में अत्यंत महत्व हैं। कल्पना शक्ति जहाँ एक ओर हमें कल्पनाओं के सहारे उन्मुक्त गगन में उड़ना सिखाती है वहीं दूसरी तरफ हमारे विचारों को वृहद कर नवीन आविष्कार व रचनाएँ करने को प्रेरित भी करती हैं। कल्पनाएं काफी हद तक हमारी सफलता के महत्वपूर्ण सोपानों में से एक है। कल्पना शक्ति का अर्थ हमारी मानसिक क्रिया के रूप में लिया जा सकता है। कल्पना शक्ति हमारे मन को उत्तेजित करने का माध्यम है, दुर्गम व असंभव वस्तुओं को प्राप्त करने का विचार है और भावनाओं को उभारनें की चेतना है।

अपने ब्लॉग के अगले पोस्ट में अपनी कल्पना शक्ति का एक रोचक प्रसंग संस्मरण के माध्यम से आप सभी के समक्ष साझा करूंगी। तो मिलते हैं अगले पोस्ट में मेरे जीवन की एक दिलचस्प, कल्पना शक्ति से पूर्ण और मनोरंजक प्रसंग के साथ। आप सभी स्वस्थ रहें, मस्त रहें और सुरक्षित रहें नमस्कार               

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *