Learn Marathi through Hindi | 3 Best मराठी भाषा का व्याकरण, वर्णमाला, शब्दकोश

Learn Marathi through Hindi

हिन्दी भाषा के माध्यम से मराठी भाषा को सीखना तथा मराठी शब्दकोश

Learn Marathi through Hindi हिन्दी भाषा के द्वारा मराठी भाषा को सीखने का बेहतरीन माध्यम है। यह पोस्ट हमें हिन्दी भाषा की वर्णमाला के माध्यम से मराठी वर्णमाला व व्याकरण का ज्ञान प्रदान करने में सहायक है तथा शब्दकोश मराठी भाषा के शब्दों के अध्ययन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

मराठी भाषा की लिपि देवनागरी है। मराठी भाषा का व्याकरण भारतीय आर्य समूह की भाषा है। मराठी भाषा का व्याकरण आधुनिक इंडो– आर्यन भाषाओं के समान है। हिन्दी, गुजराती तथा पंजाबी भाषाओं के व्याकरण में भी यही समानता पाई जाती है। हिन्दी व मराठी दोनों ही भाषाओं की देवनागरी लिपि होने के कारण मराठी भाषा की वर्णमाला को हिन्दी भाषा के माध्यम से समझना आसान हो जाता है।

किसी भी भाषा को समझने व सीखने के लिए हमारे लिए उस भाषा के व्याकरण को समझना आवश्यक होता है, क्योंकि व्याकरण वह शास्त्र है जिसके द्वारा हम किसी भी भाषा के शुद्ध रूप का ज्ञान प्राप्त करते हैं और व्याकरण की पहली कड़ी वर्णमाला होती है।

तो आइए मराठी भाषा सीखने के प्रयास में सबसे पहले हम हिन्दी व मराठी भाषा की वर्णमाला का अध्ययन करें–

वर्णमाला  

वर्णमाला किसी भाषा को सीखने का प्रथम सोपान होता है। मराठी की लिपि देवनागरी है। अत: हिन्दी व मराठी की वर्णमाला में बहुत कम अंतर है। जैसे मराठी में दीर्घ ‘ऋृ’ होती है। मराठी में दो स्वर अधिक हैं एक दीर्घ ‘ऋृ’ तथा दूसरा दीर्घ ‘ऌृ’ ये हिन्दी में नहीं पाए जाते हैं।

मराठी भाषा के स्वरों में इस अंतर के अलावा सभी स्वर हिन्दी भाषा के समान हैं। मराठी भाषा के व्यंजनों में ‘ळ’ वर्ण सम्मिलित है। ‘त्र’ वर्ण नहीं है। हिन्दी वर्णमाला में ‘त्र’ वर्ण है और ‘ळ’ नहीं है। मराठी भाषा में ‘त्र’ का ध्वनि रूप में प्रयोग किया जाता है।

हिन्दी में ‘ज्ञ’ वर्ण ग + य से मिलकर बना है और मराठी में ‘ज्ञ’ वर्ण द + न + य से मिल कर बना है। मराठी भाषा के ‘च’ वर्ग के च, ज, झ का उच्चारण दो प्रकार से होता है, एक हिन्दी भाषा के समान और दूसरा उर्दू भाषा के समान ‘ज़’ आदि।

हिन्दी वर्णमाला

स्वर

अ  आ  इ  ई  उ  ऊ  ऋ  ए  ऐ  ओ  औ  अं  अः ।

व्यंजन

क  ख  ग  घ  ड.

च  छ  ज  झ  इ

ट  ठ  ड  ढ  ण

त  थ  द  ध  न

प  फ  ब  भ  म

य  र  ल  व  श

ष  स  ह  क्ष  त्र

      ज्ञ । 

मराठी वर्णमाला

स्वर

अ  आ  इ  ई  उ  ऊ  ऋ  ऋृ  ऌृ  ए  ऐ  ओ  औ  अं  अः ।

व्यंजन

क  ख  ग  घ  ड.

च  छ  ज  झ  इ

ट  ठ  ड  ढ  ण

त  थ  द  ध  न

प  फ  ब  भ  म

य  र  ल  व  श

ष  स  ह  ळ  क्ष 

      ज्ञ । 

मराठी भाषा का व्याकरण

मराठी व्याकरण वह विज्ञान है, जो मराठी भाषा को पढ़ने, लिखने व बोलने संबंधी नियमों की व्याख्या करता है। वर्ण, पद, शब्द, वाक्य, भाषा का उपयोग आदि व्याकरण के ही अंग हैं। मराठी भाषा भारतीय आर्य भाषा समूह की भाषा है, तथा इसका व्याकरण आधुनिक इंडो–आर्यन भाषाओं के समान है। मराठी व्याकरण की पहली पुस्तक पंडित भीष्मचार्य द्वारा लिखी गई थी।

मराठी भाषा के व्याकरण के अंतर्गत शब्द संरचना, वाक्यों का निर्माण तथा अनुवाद के नियम सम्मिलित होते हैं। इन नियमों के माध्यम से ही भाषा का उचित उपयोग किया जा सकता है। मराठी भाषा के व्याकरण में तीन लिंग पुल्लिंग, स्त्रीलिंग व नपुंसक लिंग हैं।

संख्याओं की गिनती के लिए एकवचन तथा बहुवचन का प्रयोग होता है। कर्ता, कर्म, करण, संप्रदान, अपादान, संबंध, अधिकरण तथा सम्बोधन कारक अनुवाद हेतु सहायक एवं आवश्यक हैं। मराठी व्याकरण में वर्णित क्रियाएं वर्तमानकाल, भूतकाल व भविष्यकाल को दर्शाती हैं।

मराठी भाषा में हिन्दी भाषा के समान ही वाक्य तीन प्रकार से बनाए जाते हैं। पहला सरल वाक्य, दूसरा संयुक्त वाक्य तथा तीसरा मिश्रित वाक्य। संज्ञा का प्रयोग विशेष संज्ञा तथा सामान्य संज्ञा के रूप में होता है। इसी आधार पर विशेषण तथा प्रत्यय का प्रयोग भी मराठी व्याकरण में किया जाता है।

मराठी भाषा के व्याकरण पर हिन्दी तथा संस्कृत भाषा का व्यापक प्रभाव है। संस्कृत भाषा की शब्दावली समान शब्दों के रूप में मराठी भाषा में आ गई हैं। यही कारण है कि संस्कृत भाषा में समान शब्दों का प्रभाव मराठी भाषा विज्ञान में परिलक्षित होता है।

मराठी भाषा व्याकरण पर भारतीय – यूरोपीय भाषा की तुलना में फारसी, राजस्थानी तथा गुजराती भाषा का प्रभाव अधिक पाया जाता है।

 

Learn Marathi through Hindi
मराठी शब्दकोश

सर्वप्रथम हम यहाँ जानेंगे की शब्दकोश क्या होता है? शब्दकोश एक ऐसी सूची या बड़ा ग्रंथ होता है, जिसमें शब्दों की वर्तनी, अर्थ, व्याकरण, प्रयोग आदि का वर्णन होता है। ये एक ही भाषा के या फिर एक से अधिक भाषाओं के भी हो सकते हैं। भिन्न भिन्न विषयों के शब्दकोश अलग अलग होते हैं जैसे– विज्ञान, चिकित्सा, इतिहास, विधिक आदि।

विचारों के आदान प्रदान एवं भावों की अभिव्यक्ति के लिए किसी भी भाषा का सही शब्द चयन आवश्यक होता है। अत: शब्दों का भाषा में तथा भाषा का मानव जीवन में महत्व को समझ कर ही शब्दों को एकत्रित करके संग्रहीत करना प्रारंभ किया गया। शब्दों के इसी संग्रहीत रूप को शब्दकोश कहा गया।

शब्दकोश अनेक प्रकार के होते है – सामान्य शब्दकोश, विशिष्ट, पारिभाषिक, प्राकृतिक भाषा संसाधन के लिए, ज्ञानकोषीय, बाल शब्दकोश, तुकांत, द्विभाषी, एलेक्ट्रानिक तथा सचित्र शब्दकोश आदि। शब्दकोश के माध्यम से किसी भी भाषा के शब्दों का अन्य भाषा में अनुवाद आसानी से समझा  जा सकता है। 

इसप्रकार शिक्षा व ज्ञान अर्जन के क्षेत्र में शब्दकोश अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। व्याकरण के साथ ही किसी भी भाषा को बोलचाल में प्रयुक्त करने के लिए या समझने के लिए शब्द भंडार की आवश्यकता होती है। इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए यहाँ कुछ उपयोगी मराठी शब्दों को शब्दकोश (Dictionary) के माध्यम से साझा कर रही हूँ।

फलों के नाम
आम आंबा
अमरूद पेरू
अंगूर द्राक्ष
कच्चा आम कैरी
अनानास अनन्नस
अनार डाकिम्ब
संतरा संतरे
गन्ना ऊस
खरबूजा    खरबूज़
तरबूज टरबूज़
नाशपाती नासपाती
पपीता पपइ
भुट्टा  कणीस
बेर बोर
मुसंमी मुसंबं
शहतूत तूती
सेब  सफरचंद
लीची लीची
आड़ू आड़ू
चीकूचिकू
इमली चिंच
सूखे मेवे के नाम
 काजू काजू
बादाम बदाम
किशमिश बेदाणा
अखरोट अक्रोट
छुआरा खारीक
खजूर खजूर
पिस्ता पिस्ता
मुनक्कामनुका
सुपाड़ी सुपारी
गरी खोबरं
मूँगफली भुइ मुगाची रोंग
चिरौंजीचारोळी
सब्जियों के नाम
आलू   बटाटा
प्याज   कांदा
टमाटर   टोमैटो
फूलगोभी   फ्लावर
पत्तागोभी   कोबी
अरवी   अरवी
कटहल   फणस
लौकी    दूधी
करेला   कारले
करौंदा   करवंद
मिर्च   मिर्ची
खीरा   खीरा
गाजर   गाज़र
मूली   मुण्ण
अदरक   आले
लहसुन   लसुण
धनिया   कोथिबीर
पुदीना   पोदीना
नीबू    लिंबू
परवल   परवल
पालक   पालक
मेथी   मेथी
बैंगन  वांगे
भिंडी   भेंड़ी
सहजन   शेवगा
सुरन   सुरण
बंडा   बंडा
मटर   मटार
चना   चणा
शलजम   नवलकोल
चुकंदर   बीट
फ्रेंच बीन   फरास बी
लोबिया   चीरोंग
सोया   शेपू
तरोई  नेनुआ
गवार की फली  गवारीची शेक
गहरे रंग की सेम   घेपड़ा
कमल ककड़ीकमल नाळ
शिमला मिर्च   शिमला मिर्ची
सिंघाड़ा   शिगाड़ा
अनाजों के नाम
गेहूँ गहू
बजरा बाजरी
मक्का मका
भुट्टाकणीस
मटर मटार
मोठ मटकी
मसूर मसूर
जौ जव
ज्वार ज्वारी
मूँगफली शेंग दाणा
साबूदाना साबूदाणा
आटा कणिक
चावलतांदुळ
दालडाळ
चने की दालचण्याची डाळ
अरहर की दालतुरीची डाळ
उरद की दालउड़दाची डाळ
पक्षियों के नाम (पक्षयांची नावे)
पक्षी पाखरे
चिड़िया चिमणी
कबूतर कबुतर
मोर मोर
मोरिनीलाँडोर
तोता पोपट
कठफोड़ सुतार पक्षी
कोयल        कोकिळ
गौरैया चिमणी
तीतर तितर
बाज ससाणा
गिद्ध गिधाड़
पपीहा चातक
बतख बदक
मुर्गा कोंबडा
मुर्गी कोंबड़ी
बुलबुल बुलबुल
मैना मैना
चील घार
कोयलकोकिळा
कौआकावळा
कीड़े – मकोड़ों के नाम
कछुआकासव
केकड़ाखेकड़ा
केचुआगांडूळ
खटमलढेकुण
पतंगापाकोळी
गिरगिटसरडा
गिलहरीखार
घड़ियालमगर
चकवा – चकवीचक्रवाक – चक्रवाकी
चींटीमूँगी
साँपसाप, सर्प
चुहियाउदिर
छिपकलीपाल
जुगनूकाजवा
टिढ़डे टोळ
झींगुरनाकतोढा
तितलीफुलपाखरु
दीमकवाळवी
नागनाग
नागिननागीण 
पपीहाचातक
घुनपोरकीड़ा
खनखजूरा घोरपड़
तिलचट्टाझुरळ
मछलीमासोळी
मक्खीमाशी
मधुमक्खीमधुमाशी
मेढकबेडुळ
मच्छरडास
बरर्गांधीणमाशी 
कपड़ों में लगने वाला कीड़ाकसर
कीड़ेकीटक
रंगों के नाम
लालतांबड़ा
हराहिरवा
पीलापिवळा
बैंगनीजांभळा
भूरातपकीरी
सफेदपांढरा
आसमानीआकाशी
रानीरंगगुलबाक्षी
पीचअबोली रंग
धानीपोपटी
बादामीबादामी
मोरपंखीमोरपंखी
कत्थईकत्थई
नीलानिळा
कालाकाळा 
महीनों के नाम
जनवरीजानेवरी
फरवरीफबेवरी
मार्चमार्च
अप्रैलएप्रिल
मईमे
जूनजून
जुलाईजुलै
अगस्तऑगस्ट
सितंबरसेप्टेम्बर
अक्टूबरऑक्टोवर
नवंबरनोव्हेम्बर
दिसम्बरडिसेम्बर
हिन्दी महीनों के नाम
चैतचैत्र
बैशाखवैशाख
जेठज्येष्ठ
आषाढआषाढ़
सावनश्रावण
भादौभद्रपद
क्वारआश्विन
कार्तिककार्तिक
अगहनमार्गशीर्ष 
पूसपौष
माघमाघ
फागुनफाल्गुन
दिनों के नाम
सोमवारसोमवार
मंगलवारमंगळवार
बुधवारबुधवार
बृहस्पतिवारगुरुवार
शुक्रवारशुक्रवार
शनिवारशनिवार
रविवाररविवार
आजआज
आने वाला कलउदया
बीता हुआ कलकाल
ऋतुओं के नाम
गर्मीऊन्हाळा
जाड़ाहिवाळा
वर्षापावसाळा
दिशाओं के नाम
पूरबपूर्व
पश्चिमपश्चिम
उत्तरउत्तर
दक्षिणदक्षिण
दायांउज़वा
बायांडावा

प्रस्तुत लेख के अध्ययन के माध्यम से मराठी भाषा का पर्याप्त ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है। प्रस्तुत लेख हमें मराठी भाषा के व्याकरण से लेकर मराठी शब्दावली की महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने में सफल है।

आशा करती हूँ कि प्रस्तुत लेख के द्वारा किया गया मेरा प्रयास सभी मराठी भाषा का अध्ययन करने वालों के लिए तथा मराठी भाषा को सीखने वालों के लिए अत्यंत सहायक सिद्ध होगा। आप सभी स्वस्थ रहें, मस्त रहें और सुरक्षित रहें। नमस्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *