4 Best Motivational Hindi Poem | प्रेरणाप्रद कविता, कदम बढ़ाओ

Motivational Hindi Poem

Motivational Hindi Poem

Motivational Hindi Poem हमें संघर्षपूर्ण परिस्थितियों में अडिग रहकर उनका सामना करने की शक्ति प्रदान करती है। प्रेरणाप्रद कविता हमारे मन को निराशा से निकाल के आशा की एक किरण के दर्शन कराती है।

प्रेरणाप्रद कविता पढ़कर हम अपने अंतर्मन में उस ऊर्जा का संचार महसूस करते हैं, जो हमारे भीतर समाहित है, लेकिन जीवन की उलझनों से हैरान और परेशान हम उस ऊर्जा की शक्ति से अनभिज्ञ रहते हैं।

कविता के इस संकलन में आज मैं स्वरचित कविताएं साझा कर रही हूँ। उम्मीद करती हूँ कि मेरे द्वारा किया गया यह नन्हा सा प्रयास आप सभी के जीवन में नए उल्लास के साथ जिंदगी जीने का नया जज़्बा भी उत्पन्न करने में सफल रहेगा।

हिन्दी के अनेक महान और प्रसिद्ध कवियों ने प्रेरणाप्रद कविताओं की रचनाएँ की। जिन्हें पढ़कर हमारे मनोबल की वृद्धि होती है, और जीवन की मुश्किलों को हराने का जज़्बा उत्पन्न होता है।

तो आइए कविता के इस सफर को शुरू करें। अवश्य ही ये कविताएं आप सभी पाठकों को सकारात्मक ऊर्जा, नवीन उमंग, अथाह उत्साह, असीम हौसला और शीतलता से सराबोर आशा की फुहारों से अभिसिंचित करने में सफल रहेंगी।

जीवन के किसी न किसी मोड़ पर हम सभी स्वयं को असफल, निराश व हारा हुआ महसूस करते हैं। निरंतर प्रयास करते रहने पर भी सफलता नज़र न आना, दिन प्रति दिन निराश होते जाना हमें अंदर से तोड़ देता है। जीवन के ऐसे समय में हमारी आशाएँ बिखर जाती हैं और सपने काँच की तरह टूट जाते हैं।

जिन्दगी में असफलता के पलों में स्वयं को हताश महसूस करना हम मानव की स्वाभाविक प्रवृति है। यह मनुष्य की कमजोरी नहीं बल्कि मानसिक क्रिया होती है। जो मनचाही सफलता न मिलने पर अन्तर्मन को नकारात्मकता से भर देती है।

उस वक़्त जरूरत होती है, एक आशा की किरण तथा प्रेरणा की। प्रेरणा पाकर हम फिर से नवीन ऊर्जा के साथ कर्मपथ पर अग्रसर होते हैं। तन थकें तो ठीक किन्तु मन नहीं थकना चाहिए। अगर मन में ऊँचे आसमां में उड़ने की चाह है, तो अवश्य हौसलों के पंख हमें बुलंदियों के शिखर की सैर कराएंगे।

बस आवश्यकता है सपनों को सँजोने की और उनके पूरा होने की उम्मीद की–

No 1

आसमानी चाह

आँखों में सपनों की रूहानी है अभी।

पलकों में छिपाने की कहानी है अभी॥

आँखों में आँसू का पानी हो भला।

झील फिर भी रंगीन सुहानी है अभी॥

आँख मूँद सो गई तो यूँ लगा।

जिन्दगी की अधूरी कहानी है अभी॥

आँख भर कर रह गई यूँ चुप जरा।

पलकों के गिरने की जुबानी है अभी॥

जो छिपें थे बूँद मोती बन कहीं।

ढलक आँचल भिगाने की रवानी है अभी॥

स्वप्न टूटे, ख्वाब रूठे, जिन्दगी पिंजरा सही।

उन्मुक्त पंखों में चाह आसमानी है अभी॥

Motivational Hindi Poem

जिन्दगी क्या है? जिन्दगी एक लम्बी यात्रा है। इस यात्रा में हम कभी हार का सामना करते है, तो कभी जीत की खुशी मनाते हैं। जिन्दगी के किसी क्षण असफलता निराश करती है तो दूसरे ही समय सफलता कदम भी चूमती है। अफसोस – प्रसन्नता, संतुष्टि – असंतुष्टि, अंधेरा – उजाला, दिन – रात सभी आते रहते हैं, इन्हीं खट्टे, मीठे, कड़वे, तीखे अनुभवों के साथ जिन्दगी गुजरती रहती है।

निश्चित ही यह हम पर निर्भर करता है कि हम अपने जीवन के सफर को कैसे तय करें गुज़ार कर या जिन्दगी जी कर। जीवन के दो पहलू होते हैं, सुख – दुख, रात – दिन और हर्ष – विषाद। जिन्हें हम बदल नहीं सकते, किन्तु क्या दुख आने पर सुख की कल्पना भी नहीं कर सकते? रात के अंधेरे में प्रात:काल के सूर्य के किरणों की प्रतीक्षा नहीं की जा सकती? या विषाद के क्षणों में हर्ष की लहर नहीं चलाई जा सकती?

अवश्य हम जिन्दगी के मुश्किल पलों को आसान बना सकते हैं। उदासी में मुस्कुरा कर, संतुष्ट, प्रसन्न व सकारात्मक सोच को उत्पन्न करके। थके हुए कदमों को नवीन उत्साह के साथ आगे बढ़ाएँ निश्चय ही हम सफलता तथा प्रसन्नता को प्राप्त करेंगे।

प्रस्तुत कविता हमें जिन्दगी के दुर्गम मार्गों में भी मजबूती से कदम बढ़ाने का प्रेरणाप्रद संदेश दे रही है –

No 2

प्रेरणाप्रद कविता

आँखों में पानी सही पर, ख्वाबों का तूफान भी हो।

ओठों पर उदासी भले पर, मन में मधुर मुस्कान भी हो॥

मुश्किल राहें हो मगर, कदम चलायमान ही हों।

गहरा सागर मझधार भले, पर प्रेरणा की पतवार भी हो॥

जीवन में अवरोध भले पर, गति में प्रबल पहचान तो हो।  

सफर कठिन दुर्गम हो मंजिल पर, गतिमान निशा तो हों॥

सफलता रूठे तो रूठे उम्मीद भरी आशा तो हो।

गहन अँधेरा धुमिल दिशाएँ जुगनू का ही प्रकाश तो हो॥

चलते – चलते कदम थके पर दृढता सा विश्वास तो हो।

टूटे आशा रूठे सपने नए ख्वाबों की बारात तो हो॥

कभी हो दिन या कभी हो रात, नई सुबह का आगाज तो हो।

आँधी हो या हो तूफान उमंगों की सौगात तो हो॥

समय – समय पर हमें जीवन पथ पर अनेक ठोकरों का सामना करना पड़ता है। ठोकरें ही हमें सावधानी, सतर्कता व संघर्ष करना सिखाती हैं। फिर ठोकरों से क्यों घबराना जब तक हम ठोकरें नहीं खाएँगे संभलना नहीं सीखेंगे। गिरना कोई समस्या नहीं बल्कि गिरकर उठ न पाना हमारी प्रगति में बाधक है।

तो बस जिंदगी के दुर्गम राहों पर कदम रखते चलिये बिना थके, बिना रुके। आप स्वयं ही अनुभव करेंगे की सिर पर तना नीला आंचल छाया देगा और विस्तृत धरती आगे बढ़ने के लिए सशक्त संबल प्रदान करेगी।

माँ प्रकृति सदैव हमारे रक्षण के लिए तत्पर रहती है। मनुष्य का शारीरिक व मानसिक पोषण माँ प्रकृति ही करती है। सोचिए उसकी गोद में हम स्वयं को असुरक्षित कैसे महसूस कर सकते हैं। यह सम्पूर्ण सृष्टि और प्रकृति हमारी है। हमें इसकी रक्षा करनी होगी ताकि उसका मखमल सा आँचल जीवनपर्यंत हमें स्नेह प्रदान करता रहे।

सूरज की लाली, प्रात: की प्रथम किरण, पक्षियों की मधुर ध्वनि, हरियाली की मनमोहक सुगंध, फूलों की मदमस्त ताजगी अन्तर्मन को नवीनता, तारोताजगी, शीतलता व सौम्यता से सराबोर कर देते हैं। आवश्यकता है, प्रकृति के महत्व को समझने की और आत्मिक इच्छा के साथ माँ प्रकृति की सौगात का आलिंगन करने की।

नीले आकाश का विस्तार हमें मिला है। निर्णय हमें करना है कि क्या हम सपनों को सजा कर, उम्मीदों के पंखों के द्वारा, हौसलों की ऊँची उड़ान भर के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए तैयार हैं? –

No 3

कदम बढ़ाओ

उम्मीदों की लहर चली है।

सपनों का आसमा बना है॥

कदमों के नीचे धरती तो,

सिर पर नीला आकाश तना है।

चलते चलते कदम थके तो,

धरती सी दृढता लाओ।

अपना कद छोटा लगे तो,

आसमा पर नजर उठाओ॥

है सृष्टि के कण – कण में जो

बस अपनी पहचान बनाओ।

हम है सृष्टि से सृष्टि हमारी

बस नई ऊर्जा जगाओ॥

सूरज की तेजस्वी लाली या

चंद्रमा की धवल चाँदनी।

सपनों का संसार सही पर,

आँखों में नई चमक सजाओ॥

सपनों का ऊंचा आसमा तो,

उम्मीदों के पंख सजेंगे।

हौसलों की उड़ान मिलेगी।

लक्ष्य को चुन कर कदम बढ़ाओ॥

कदम बढ़ाओ, कदम बढ़ाओ॥

Motivational Hindi Poem

आधुनिक समाज में लोग दुनिया की आवाज़ सुनते – सुनते अपने मन की सुनना ही भूल गए हैं। जबकि हमारे मन की आवाज़ ही अंत:कारण को सुकून देती है। तो बस बहुत हुआ लोगों को सुनना, अब अपने मन की सुनिए। विशेष रूप से आज के युवक जो अंधी दौड़ में दौड़ते जा रहे है।

बंद करिए लोगों के पीछे भागना – दौड़ना क्योकि वह आपकी सामर्थ नहीं आपके अंदर कुछ और ही सामर्थ, कौशल व गुण छिपे हैं, उन्हें पहचानिए। उसके लिए आवश्यक है, अपने मन की  आवाज़ को सुनना। जिस काम में आपका मन लगे, संतुष्टि, सुकून, प्रसन्नता मिले वही कार्य कीजिये।

अगर लेखन, खेल, पेंटिंग, फोटोग्राफी या कैलिग्राफी में आपकी रुचि है तो इजीनियरिंग क्यूँ? कोई भी कार्य हमें तब तक सफलता नहीं दिलाता जब तक हम उसे मन से नहीं करते। तो चुनिये उस कार्य को जिसे आप पूरे मन से और एंजॉय करके कर सकते हैं। यह खुशनुमा जिंदगी है, इसे आखाडा ना बनाए।   

प्रयास किया असफल हो गए लेकिन इसका मतलब यह नहीं की जिंदगी खत्म। जो चाहा नहीं मिला, धन कम कमाया, सपने टूट गए, प्रसिद्ध नहीं हो सके, पहचान नहीं बनी, इंस्टाग्राम पर फ़ौलोवर्स नहीं बढ़े, फ़ेसबुक पर कमेंट नहीं मिले या फिर ट्वीटर पर लाइक कम रह गए।

यह सब सोचेंगे तो सिर्फ दिमाग चला पाएगे और मन को दुखी करते रहेंगे। हमें मन को खुश  रखना है, तभी तो मन अच्छे विचारों को दिमाग में पहुंचाएगा। शायद यह मेरे विचार हो सकते हैं, किन्तु आप स्वयं विचार कीजिये –

No 4
निकल पड़ें

आँखों में सपने लेकर, मन में लेकर आशाएँ,

बंद मुट्ठी में हौसलें, दिल में लेकर उम्मीदें।

निकल पड़े दुर्गम राहों पे हम अपना पथ ढूँढने॥

बड़े कठिन ऊबर – खाबड़ जीवन के ये रास्ते,

कभी थके तन, कभी रुके पग, पर मन में है दृढता।

सूरज का प्रकाश नहीं पर रौशन दीपक की पंक्तियाँ।।

इक आशा की किरण ही देती चलने की वो ऊर्जा।

सागर सा गहरा जीवन थाह नहीं जिसकी असीमता,

वही सोच उतनी गहराई लाये अंतरात्मा॥

शीतलता लेना सीखे हम निर्मल सरिता सी साधना।

माथे पर स्वेद बिन्दु फिर भी बहने की लालसा॥

वक़्त के आगे झुक जाए पर टूटने की चाह नहीं।

झुक कर ही ऊँचा कद मिला अब अहं की वो आग नहीं॥

हालातों के पिंजरे में अब वक़्त कब तक रखेगा।

उत्साह भरे इन पंखों में अब उड़ने की राह बनी॥

मन को शांत, संतुष्ट और प्रसन्न रखने का प्रयास कीजिये मन खुश तो उम्मीदें पुन: उभरेंगी नई राहें बनेंगी उस वक़्त शांत मन दिमाग को सोचने – विचारने की अदम्य शक्ति देगा। मन शांत, दिमाग तंदरुस्त, अंतरात्मा प्रसन्न, शरीर स्वस्थ तो अवश्य जीवन पथ की मुश्किलें आसान लगेंगी।  

जिंदगी की चुनौतियों के पलों में शांत रहना आसान नहीं, किन्तु असंभव भी नही। संयम के साथ अपने लक्ष्य को पाने की कोशिश करिए। आपका प्रयास और संघर्ष सफलता के सोपान अवश्य चढ़ेगा।

कविता का यह संकलन हमें शांति, सुकून, संतुष्टि के साथ – साथ प्रयास करने की असीम शक्ति भी प्रदान करता है। आशा करती हूँ कि स्वरचित प्रेरणाप्रद कविता के इस सफर के द्वारा किया गया मेरा प्रयास नवयुवकों को नवीन चेतना, हारे हुए को हौसला तथा निराशा में आशा की किरण प्रकाशित करते हुए सफलता के नए द्वार जरूर खोलेगा।

कविताओं के सफर को यहाँ समाप्त करती हूँ। आप सभी स्वस्थ रहें, मस्त रहें सुरक्षित रहें। नमस्कार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *