4 Best Prernaprad Kavita | प्रेरणादायक, हिन्दी कविता

PRERNAPRAD KAVITA
Prernaprad Kavita

प्रेरणाप्रद कविता

Prernaprad Kavita क्या है? प्रेरणाप्रद कविता हमारे अंत: करण को अभिप्रेरित करती है। हमें जीवन में आगे बढ्ने हेतु अभिप्रेरित करतीं हैं। प्रेरणाप्रद कविता पढ़कर या सुनकर हमें Motivational विचार व सोच प्राप्त होती है और हम अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए प्रेरणा ग्रहण करके अत्यंत उत्साह, उमंग व विश्वास से क्रियाएँ करते हैं।

प्रस्तुत पोस्ट में मैं कुछ स्वरचित कविता साझा कर रही हूँ। जो प्रेरणादायक कविताओं का उदाहरण प्रस्तुत करने में सहायक सिद्ध हो सकती हैं। तो आइए मेरी अनुभूतियों से उत्पन्न काव्य पंक्तियों का आनंद प्राप्त करिए।

मुश्किलें क्या हैं? मुश्किलें, उलझनें व समस्याएँ हमारे जीवन का हिस्सा हैं। जिन्हें चाह कर भी हम स्वयं से अलग नहीं कर सकते। किन्तु जीवन के समस्यात्मक पलों में उम्मीद, ख़्वाहिश, सपनें व विश्वास को बनाए रखने की कला अवश्य सीख सकते हैं। जरूरतमंदों की मदद करके आत्मसंतुष्टि प्राप्त कर सकते हैं क्योकि आत्मसंतुष्टि सुख का सबसे बड़ा कारण होता है–

PRERNAPRAD KAVITA

प्रेरणादायक कविता No 1

हर रस्म

जमानें की हर रस्म निभाने की सोचिए।

मुश्किलों से यूँ न भाग जाने की सोचिए॥

उलझनों को यूँ न दिल से लगाइए।

सपनों को अपने दिल में बसाने की सोचिए॥

गिरते हुए का बनिए सहारा जो बन सकें।

भटके हुए को राह दिखाने की सोचिए॥

ये जिंदगी का सफर है कटता ही जाएगा।

हर पल किसी का साथ निभाने की सोचिए॥

कहते हैं मन बड़ा चंचल होता है। मन प्रतिदिन नई – नई तमन्नाओं को उत्पन्न करता है। आवश्यक नहीं की हमारे मन की प्रत्तेक तमन्ना पूरी हो जाए। यदि कोई तमन्ना पूरी हो जाती है तो ये हमारा मन प्रसन्नता का अनुभव करके सातवें आसमान पर पहुँच जाता है और कोई तमन्ना पूरी न हो पाने पर उदास होकर निराशा में डूब जाता है।

निराशा हमारी प्रगति में बाधक होने के साथ साथ हमारे मानसिक अशांति का कारण भी होती है। जिस प्रकार हमारी समस्याएँ हमसे संबन्धित होती हैं।उसी प्रकार उनका समाधान भी हमारे भीतर ही होता है। बस दृष्टि बदलने की जरूरत है। एक गहरी सांस लेकर सब अच्छा ही होगा ऐसी आशा की जरूरत है। आप स्वयं महसूस करेंगे कि मन को सुकून मिलेगा तो वो आपको भी शांति ही प्रदान करेगा–

कविता No 2

मेरे मन

रातों का अंधेरा गहन होता है।

पर रौशन सुबह आती ही है॥

मंजिलों की राहें विषम सही पर,

मंजिल तक पहुंचाती ही हैं॥

संघर्ष का समय कटता ही है।

सफलता कदम चूमती भी है॥

अगर निराशा का कोहरा घना है,

तो आशा की एक किरण नज़र आती ही है।

न परेशा हो मेरे मनकभी संकट की कड़ी धूप,

तो कभी सुखद शीतल छाया मिलती ही है॥

उम्मीदें, आत्मविश्वास व धैर्य कोई सामान्य विचार और गुण नहीं हैं, बल्कि उम्मीदें तो हमें जीवन के कठिन और असफलता के पलों में अडिग अपने कर्तव्यों को करने की शिक्षा देती हैं। उम्मीद व आशा एक ऐसा संबल है जिसे थामने वाला व्यक्ति अवश्य ही निराशा और असफलता के अंधेरे को चीर कर सफलता के शिखर को प्राप्त कर लेता है।

उस पल व्यक्ति को अपनी सफलता का मोल पता चलता है और वह स्वर्णिम लम्हा प्राप्त होता है जो उस कार्य में आई हुई सम्पूर्ण समस्याओं तथा अड़चनों को विस्मृत कर देता है। 

कविता No 3

उम्मीद

इक आशा है जीवन की,

इक बार अगर वो मिल जाए,

दोनों हाथों से थामे उसे,

मन की कलियाँ मुसका जाएं,

वो चुपके से ही मिल जाए,

बिन शोर मचाए रुक जाए,

मन की गहराइयों में अपना,

आत्मविश्वास दिला जाए,

वो हमें हमसे मिला जाए,

इक प्यारा एहसास जगा जाए,

जब जब पलकें झपकाऊं

अपनी परछाई दिखा जाए।

वो कौन है मुझसे पूछे कोई,

इक नन्हा लम्हा बता जाऊँ।

हर किसी के मन में पलती

मन की उम्मीद बता जाऊँ।

उम्मीद ही ऐसा संबल है,

हर पल आगे बढ़ने देता।

हर कठिनाई को पार कर

उस लक्ष्य तक पहुँचा देता

जहाँ मिलता वो लम्हा जो

आँखों में चमक सजा देता॥

आशा निराशा, सुख – दुख, हर्ष – विषाद, उन्नति – अवनति, सफलता – असफलता सभी हमारे जीवन में अहम भूमिका निभाते हैं। जैसे रात और दिन का अपना अलग – अलग महत्व है, वैसे ही इन सभी परिस्थितियों का भी है। पर क्या आप जानते हैं? वेदना, करुणा, त्रास ये सभी विषम परिस्थितियाँ यदि हमारे जीवन में आती हैं, तो उनका भी कुछ उद्देश्य होता है। वो हमें और अधिक मजबूत, सशक्त और आत्म विश्वासी बनाती हैं।

कहते हैं जीवन में अंधकार कितना ही घना क्यूँ ना हो इक आशा की किरण सम्पूर्ण अंधकार को समाप्त करने के लिए पर्याप्त होती है प्रेरणादायक कविता हमारे अंतर्मन में नयी उम्मीद जागरण करने का कार्य करती है जिससे जीवन का अंधकार समाप्त हो जाता है-

कविता No 4

वेदना और करुणा

मनुष्य में क्षमता है कुछ भी

कर गुजरने की,

बस जरूरत है वेदना और करुणा

को अपनी ताकत बनाने की।

अंधेरे की रात छटती भी है,

रोशनी की सुबह आती भी है,

बस जरूरत है आंखो में,

नयी चमक लाने की।

कभी मन थकता भी है।

जिंदगी की उधेड़बुन से,

बस जरूरत है मन को इक

आशा के किरण के आने की।

वेदना और करुणा तो,

जिंदगी के दो पहलू है।

बस जरूरत है इनपर,

विजय पाने की॥

आशा, उम्मीद, विश्वास और धैर्य हमारे जीवन पथ में हमारे अच्छे साथी और मार्ग प्रदर्शक होते हैं इसलिए हमें इनका साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए। तो अब आशा की दृष्टि से जीवन को देखिये निराशा का घना कोहरा स्वयं ही छट जाएगा। मेरी उपयुक्त वर्णित कविता से आप पाठकों को किंचित मात्र भी आशा, खुशी, उत्साह और उम्मीद प्राप्त होती है, तो मेरे लिए अत्यंत हर्ष का विषय होगा।

प्रेरणा और अभिप्रेरणा पढ़ने हेतु क्लिक करें

215 thoughts on “4 Best Prernaprad Kavita | प्रेरणादायक, हिन्दी कविता”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *