Yaadein Kya Hoti Hain? | 1 Best कविता और सकारात्मक, नकारात्मक यादें

Yaadein Kya Hoti Hain
Yaadein Kya Hoti Hain?

यादें क्या होती हैं- स्मृतियाँ या जीवन का अनमोल खजाना

Yaadein Kya Hoti Hain? क्यों आती हैं? कहाँ होती हैं? ये सभी प्रश्न हमारे अन्तर्मन को विह्वल करते रहते हैं। ये यादें कभी हमारे होठों पर मंदम मुस्कान बिखेर देती हैं, तो कभी चुपके से पलकों को भिगा जाती हैं। तो आइए प्रस्तुत लेख के माध्यम से जानने का प्रयास करें की यादें क्या होती हैं और किस प्रकार हमारे जीवन को प्रभावित करतीं हैं? साथ ही खुशनुमा और गमगीन जीवन की यादों को समेटे हुए यादें शीर्षक कविता का आनंद लें।

यादें क्या होती हैं?

यादें जिन्हे जिन्हें हम स्मृतियाँ भी कहते हैं। ये यादें हमारे जीवन का अनमोल हिस्सा होती हैं, जो हमारे साथ-साथ हमारे जीवन पथ पर अग्रसर होती हैं। विधाता ने मनुष्य को यह बहुमूल्य गुण प्रदान किया हैं की वह भूतकाल की घटनाओ व यादों को संकलित करके भविष्य की संभावनाओ की योजना भी कर सकता हैं। यही गुण मानव को पशुओ से भिन्न बनाते  हैं।

यादें हमारे अन्तर्मन मे सुप्तावस्था मे रहती हैंजो समय के साथ-साथ हमे उनसे जुड़े लम्हों व पलों को याद दिलाती हैं। यादें सकारात्मक व नकारात्मक दोनों ही प्रकार की होती हैंयही कारण हैं की कभी कुछ यादें के आने से हमारा मन उमंग व प्रसन्नता से सराबोर हो जाता हैं तो कभी दुख व निराशा से निमग्न।

YAADEIN

सकारात्मक और नकारात्मक यादें

नकारात्मक यादें हमे उदासीनता से भर देती हैं और हम अपने बीते समय के दुख के कारण अपने वर्तमान व भविष्य को भी निराशा की दृष्टि से देखते हैं। इनके विपरीत सकारात्मक यादें हमे आत्मिक सुख व शांति प्रदान करती हैं। शांतसौम्यआनंद दायक भावों की भाति हमारे मन को प्रसन्न, शांत सुखमय लहरों के शीतल जल से सराबोर कर देती हैं।

अतयादों के संचयन मे  हमें सदैव सकारात्मक यादों के विषय मे ही सोचना चाहिए। हमारे अन्तर्मन व मस्तिष्क की स्मरण शक्ति मे सभी प्रकार की यादों का संचयन हैं किन्तु यह हमारी सोच पर निर्भर करता हैं की हम अपने जीवन की सुखमय यादों का स्मरण करे और जीवन मे उनसे प्रेरणा ले। उन लोगो से जुड़ी यादों को स्मरण करे जो हमें जीवन मे प्रगतिशील दिशा प्रदान कर सके। हमारे जीवन मे कभी कुछ प्रसन्नचित तो कभी उदासीन लोगों से हमारी भेट होती रहती हैं।

वर्तमान जीवन की विषम परिस्थितियो के कारण हम जितना प्रसन्नचित लोगों से प्रभावित नहीं होते उनसे कही अधिक उदासीन लोगों की नकारात्मक सोच हम पर हावी हो जाती हैं। फलतः हमारा अन्तर्मन हमें उदासीन विचारों की ओर खीचने लगता हैं। इन विषम परिस्थितियो मे हमें उन लोगों से जुड़ी यादों को स्मरण करना चाहिए जो हमें  जीवन मे प्रगतिशील दिशा प्रदान कर सके। इसके अतिरिक्त हमें अपनी सकारात्मक यादों को सशक्त करने की आवश्यकता होती हैं। अपनी मनः शक्ति को इतना शक्तिशाली करने की आवश्यकता होती हैंकी हमारे नकारात्मक पल अन्तर्मन के किसी  कोने मे सुप्तावस्था मे रहे उन्हें उभर कर अपने दिलोदिमाग पर सक्रिय न होने दें।

YAADEIN

जीवन के उतार–चढ़ाओ, उन्नति–अवनति, सुख–दुख व जीवन मरण के चक्र से स्वयं को अलग नहीं कर सकते। ये मानव जीवन की यथार्थता हैं जिसे हमे स्वीकार करना ही पड़ता हैं, किन्तु यदि हम अपनी यादों के शांत, आह्लादकारी व मनोहारी पलों को संचित करके रखे तो वे हमे जीवन की विकट परिस्थितियो से उबरने मे सहायक सिद्ध हो सकते हैं।

यह हमारे शांत मन, संतुलित स्मरण शक्ति व सौम्य अन्तः कारण के द्वारा ही संभव हैं। हम सतत प्रयासो के बाद भी जीवन रूपी किताब से यादों के पन्नो को मिटा नहीं सकते। यादों के बिना जीवन की किताब अधूरी हैं, क्यूकि यादें हमें संवेदनशील बनाती हैं। हमारे विचारों को सक्रियता प्रदान करती हैं। अवश्य कुछ यादें अन्तः कारण को विचलित करती हैं, किन्तु प्रेम, आशा व विश्वास रूपी भावों को संबल बना कर हम अपनी नकारात्मक यादों से भी प्रेरणा ले सकते हैं।

हमारे लिए यह विचारणीय विषय है कि हमें अपने जीवन के संग्रहालय मे संग्रहीत किन यादों को याद करना हैं, शांत व आह्लादकारी य मन को विचलित करने वाली या फिर दोनों सकारात्मक यादों मे प्रसन्नचित रहने के लिए और नकारात्मक यादों से प्रेरणा लेकर अपने विचारों को सक्रियता प्रदान करने के लिए।

ये यादें  ही हमें जिंदगी जीने का हौसला देती हैं इस लिए हमेशा खुशनुमा यादों का स्मरण करने का प्रयास करना चाहिए। जीवन में यादों के महत्व को प्रकट करने वाली यादें शीर्षक कविता साझा कर रही हूँ। यह कविता एक ओर जीवन के हसीन पलों को समेटे हुए है तो दूसरी तरफ अपने को खो देने के लम्हों की स्मृति भी सँजोये है। तो आइए प्रस्तुत कविता के माध्यम से हम जीवन की यादों को ताजा करें।

प्रस्तुत संदर्भ मे मैं स्वरचित काव्य पक्तियाँ साझा कर रही हूँ।

कविता

                          यादें

यादों का शहर कभी नहीं उजड़ता

कभी मीठी सी, कभी खट्टी सी,

कभी गमगीन तो, कभी खुशनुमा सी,

हर पल एक याद दस्तक दे जाती है,

मन को झकझोर जाती हैं।

कभी खुशनुमा पल याद दिला जाती हैं,

हमे सालो पीछे ले जाती हैं,

दिल की गहराइओ मे छिपे रिश्ते भी

उभर आते हैं,

जहन मे जब वो खयाल आते हैं,

मन मे तरंगे हिलोरे लेती हैं,

कल आज बन कर सामने आ जाता हैं,

मन को झकझोर जाता हैं।। 

कभी गमगीन सा माहौल हो जाता हैं

जब किसी को खो देने का खयाल आता हैं,

जिनका वरद हस्त हमारी सफलता थी,

प्यार हमारा आसरा और साथ हमारी दुनिया

वो सहारा धुंधला सा पड़ जाता हैं,

सफलता कही कोहरे मे खो जाती हैं,

मन को झकझोर जाती हैं।।

यादे भी जरूरी हैं जीने के लिए

खुशी मे खुश होने व दुख मे संवेदना

जगाने के लिए,

हर पल, हर क्षण मन को

झकझोर जाने के लिए॥

“विनीता”

 

1 thought on “Yaadein Kya Hoti Hain? | 1 Best कविता और सकारात्मक, नकारात्मक यादें”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *